10559829_10152288802442879_2007925263939605051_n

The Demons inside Us

Sometimes we do not understand our own attitude. Or we do but we are too busy fighting our inner demons to be able to handle the one we start appearing on the outside.

Something has to come our way to make us feel good or at least better to change that moment growing into a habit. And if it does, then it can stop us from becoming harsh towards the very people we yearn for; stop us from being indecisive and judgmental towards the very people we care for; stop us from being mean and cruel or indifferent towards the very people we crave for.

I hope, each of us gets lucky each day with at least one such happy moment for us to help not lose our loved ones to our innocent tired gone wicked minds.

~ Purvi Petal

10389331_754523344590868_5949726228874477204_n

Energy (Power) Saving Tips

Here are some energy-saving tips we can all follow ~

1.Most homes consume high amount of energy due to heating and cooling and heating systems. Be sure to use only regulated systems with high-efficiency ratings.
2.To reduce the amount of heating and cooling required, ensure that there is insulation in ducts and walls to reduce heating/cooling escaping through cracks and walls.
3.Lower the thermostat on heating and increase the thermostat on Cooling. Just one centigrade difference can help save at least 10% on your monthly utility bill. Further, making energy efficient changes to your home can increase its market value.
4.Home appliances, such as DVD players and televisions, should be turned off and unplugged when not in use. Remember that these appliances still consume energy even when in standby mode so turn them off at the wall – even consider unplugging them completely.

Energy Saving recycling

5.When using the dishwasher, you can open the door and let the dishes dry in the open air instead of using the drying facility of the dishwasher.
6.Using a regular electric bulb can consume a lot of energy. Instead use fluorescent energy saving bulbs for lower energy consumption.
7.If you are using a hot water tank, make sure it has proper insulation. This alone can save dollars on your monthly utility bills.
To save water, ensure there are no leaky taps in sinks, baths and showers.
8.Lots of us may be unaware that keeping the refrigerator door open for extended times is a waste of energy. When the door is open, the cooling system of the refrigerator will require more energy to keep it cool, thus increasing energy consumption. Making sure that the seal on the refrigerator door works perfectly is another way to conserve energy at home.

Energy Saving is becoming more and more important as we wake up to the reality of what is happening to our planet.

As we consume increasing amounts of energy, and affect the Earth in the process, we need to be more diligent in reducing our carbon footprint.

Simple steps like turning lights off when leaving the room, walking instead of driving, and being aware of how our modern houses and offices affect the world are easy.

Following these simple energy-saving tips can help you conserve energy at home and in the office, help save the environment, as well as save you money on your bills.

Review On Various Brands Of Salted Oats

Reviewing Quaker, Saffola, Horlicks & Kelloggs Brand of Salted Oats.
*(I have reviewed only the salty lapsi/daliya ones, not the sweet porridge types because I am not really very fond of sweet porridge though a really good and extensive variety is available in Quaker oats.).
Image

 

  While Quaker has the most balanced ingredients, as well as measurements for salt (already added) or water to be added, Saffola is quite filling with its quantity for one time breakie. Also, Saffola tastes best, next followed by Quaker and Horlicks quite close though you need to add salt to Saffola & Kellogs (pic1 – prhps in keeping with BP or other health requirements of people). In these, you can add salt as per your desire or requirement though Quaker & Horlicks are as salty as any ready-to-cook food combo normally are. I was irritated by the ‘different’ water addition requirement of Kelloggs packet (200ml as compared to 1 cup-160-17-ml or 1.5 cup-240 ml of water required in others). Makes life cumbersome when you need to bother with measurements esp when you are in dire need of a quick fix-me-up! :| :X

Image

 

Notice the ingredients carefully.

Image

While 3 out of 4 offer quite safe ingredients, there is one that has added an ingredient esp harmful. Which one? Read the next pic.

Image

Kelloggs Oats has added Silica, which is also known as silicone dioxide, damages the liver. Silica dust is a known carcinogen, lung irritant, and a central nervous system toxin.

DISCLAIMER:

No, I am not being paid for this review! But i feel the need to communicate something I feel is of utmost relevance to our health. In case you want to know if these 3-minute ready-to-cook food-packets are safe for consumption by a baby or child, let me make it very clear that I wrote this as an adult consumer so absolutely no idea if this these can be given to a baby or even a child. It is best to ask a certified Pediatrician, esp the one Doctor whom you consult for your baby. However, most of the ready-to-cook packet-ed oats have a prominent presence of ‘chilly flakes’ which CANNOT be allowed to be consumed by a baby or a small child. :|

Rising Through Falling : “Free Fall – The Journey Home by Rohini Singh” : An Overview

Image

Today is Teachers Day. What other day would be better to write about a book that ‘teaches’ you to live. Through an interesting story of a parrot’s (or our?) life-travel, capturing the travails of life in a parable, the book  slides into the various gullies of a common life, guiding us to question our thoughts and find answers within them.
The book tries to answer the question it poses:
“Is it ‘Possibe’ to ‘Change Your Life’? To quite an extent, actually Yes.”
Working on the theory of ‘YOUR THOUGHTS CREATE YOUR LIFE’ and yet, when things go wrong, to make us see new perspectives or ‘perchpectives’ as the author chooses to pen it,  the author has woven a fable that is interesting to watch like an anime movie, albeit at its own pace, only slightly racy rapid at places.

Mostly, life (like mine has been and of what others I have seen), isn’t really all that smooth even when we talk of its going through its ups and downs, as the parable lets it read.  It is a bit slow in its pace at certain places but then swinging and spiralling through downslides or upswings or merry-go-rounds or go-cartels and roller-coasters; and thumps & jumps and shocks and accidents and bumps and rocks on bumpy rocky pot-holed roads and muddy dirt & stone-ridden tracks with quick-sand suckers lying as traps.
Instead, there are equally spaced tidal waves in the story (like a typical story) that settle down at just the most appropriate time, but sadly no sudden storms and Tsunamis. Everything happens at the right time to introduce the right change, unlike life. This is where the book falters, where its knees wobble. That is why, with the book, the ride fascinates but disappointingly does not intrigue, attracts but does not impress much, makes an impression but not an indelible one, impacts in a subtle way, not banging you in the head but lingering like an after-taste, a thought that continues to tinker in the mind, making you pause and wonder and wander in your own life’s theories. And this, didn’t make me very happy or convinced or shaken either, as an adult, mature reader. It does not become my Bible, which, I can open a random page and seek answers to when in confusion.

But when I say that, I mean to say something else than rejection of the book. A bit superficial at times, but overall it’s a fun, easy read with great, positive life and power affirming content :) The book is actually going to make an immensely effective as well as a good read for children in the age-group of 8-14 years, depending upon their reading-difficulty level achieved. Those who are into reading their ‘Enid Blytons’ would do well to read this, and I strongly recommend the book as a must-gift for all kids by their parents for a summer or autumn or winter-break read or even to be sent as a birthday-gift to your child’s friend(s) ! You could yourself buy the book for a child that age, any reason, any occasion, any single day would suit it. An exam cleared or not cleared, a birthday or friend-ship day or Children’s Day or Birds’ Day or Reading Day or some such purpose.
A must buy for all Libraries, I think it would do well for CBSE to introduce the book to Sixth graders as an English text-book novel. If not that, it could at-least add it to their list of must-reads and recommended-reads for children that age!

As I read through the book, I strongly felt, that this lesson through a parable is best absorbed and understood at the tender age of learning values when they should be picked up, before making mistakes that can be avoided, before stumbling upon the blocks of life. Though it’s probably never too late to learn, isn’t it best to imbibe the best at the earliest? It infuses the reader with a kind of optimism, hope and encouragement that is mot understood and needed when under-confidence overwhelms, when you have to take the first step and do not have the guts to do it. Whether you’re struggling with doubt or debt or simply looking to have more success and abundance, you could benefit from this ‘read-me-&-prop-yourself’ book. (It’s not exactly a Self-Help book, no, I wouldn’t categorise it in that category. It IS inspirational but not really a transformational profound book.)
While it is easy to notice the kids these days as brash, over-optimistic and crude in their rudeness to attempt everything forbidden, unforeseen or lucrative, there is a certain inferiority-complex that propels them to try out not for the unreachable but for what that is someone else’s instead of what could be moving in the correct direction on the intuitive radar.. Then even the radar could go wrong if you misinterpret the signals or read too much into them or be rid with over-confidence when perceiving them. Nothing is infallible after all ! THAT is over-confidence. Then, there are others who are shy, timid and shrugging-off their shoulders in the garb of indifference to trying out anything new, be it new ideas, experiments or values. What one needs in life is balance. The book, you could say, to an extent, is meant for both kind of children, though much much more suitable for the latter kind, so very abundantly found in our middle-class schools. I am sure they will absolutely love this book. Peppered with heart-warming insights and wisdom, ‘Free Fall: The Journey Home’ by Rohini Singh is sure to remain with them long after they have turned the last page & continue to amaze them as an initial imprint on their soul-thought.
I particularly like the portion where moods have been compared to objects tangible and intangible, including colours. It is a nice game that could be played in the classroom, as a play on adjectives as well as for a class of moral-values secretly playing on sociology plus psychology of the kids involved. This little book here proves to you once and for all that your thoughts have power and that a field of infinite possibilities awaits your claim.
It is a vivid portrayal of the Physicality of The Journey Of The Mind Through The Soul.
Image
I loved turning the pages of the book, for its sheer creative artistic beauty! The cover is pure delight, a treasure to hold in your hands. The pages inside are a pleasure to behold, the way spectacular illustrations pop up every now and then, before and after and in-between the chapters.
The summarising quotes that lay open the crux of the chapter, the focus of the story is easy to lay your thoughts upon. I guess, kids would love to audaciously colour the illustrations in colours of their own choice to bring the book alive to their own personal selves, to savor the copy for life, as a cherished possession of their growing-up learning years.

ImageAs a suggestion, I recommend adding a ‘tear-out’ page at the beginning of the book that provides an easy origami/cut-out/ corner or insert DIY and color-it-yourself bookmark.Image

I guarantee the sales of the book shall sky-rocket with this added incentive (no, its not a gimmick! :O ), making it reach the right hands and eyes to read. ^_^

(I have provided an example of how to do it here. I made one for myself, just because the kid in me came alive when I took the book in hand.)
ImageImageImageImageImage
Image

Rohini Singh is a spiritual mentor, life coach and corporate facilitator. She practices a number of alternative healing therapies, including Reiki, reflexology, hypnotherapy, Emotional Freedom Techniques, and Theta Healing; and conducts regular personal-growth workshops and healing retreats both in India and elsewhere. She leads retreat designed to empower, transform and connect with the true Self. She writes regularly for newspapers, speaks at public forums, and is the author of numerous internationally bestselling books including The Only Way Out is Within and has written eight best-selling cookbooks apart from two novels for children. No doubt, she has done a good job, if not the best, again. :) Like I said, this book too feels to me, more suited for children. Try it out. :)

You can connect to the book’s official promotional facebook page here:
https://www.facebook.com/freefallthejourneyhome

Book Source : Publisher
Publisher : Hay House India
Genre : Parable
Price : Rs. 299/-
ISBN : 978-93-81431-31-3

श्रम दिवस और हम – एक व्यंग्य

आज मई दिवस है। यानी की श्रमिक दिवस। वो दिन जो श्रम को सम्मानित करता है। उन लोगों को प्रोत्साहित करता है जो मेहनतकश हैं, जो की खून-पसीना-दिमाग-दिल लगा कर सबके जीवन को और भी जीने योग्य बनाते हैं, साधनो को साध्य बनाते हैं। निश्चय ही इस दिन को ‘मनाया’ जाना चाहिए, ‘सेलीब्रेट’ करना चाहिए। अच्छे श्रमिकों को पुरस्कृत किया जाना चाहिए जिस से उनका और दूसरों का कर्मठता में हौसला बना रहे, उत्साहित हो कर वो अपनी कार्य-क्षमता को और बढ़ाने को प्रयत्नशील हों। और हम ऐसा करने की चेष्टा भी करते हैं। इसी लिए, इस उपलख्क्ष्य में कल लाखों रैलियाँ निकाली जाएंगी, जाने कौन कौन, किस किस कुर्सी पर विराजमान हर स्तर के स्टार लोग भाषण देंगे, मंचो पर विभिन्न श्रेणी के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे, राजनैतिक पार्टियां अपने लुभावने प्रत्याशियों के हाथों इनाम बटवाते हुये फोटो खिंचवाएँगी और अखबारों में छपवाएंगी, शिलान्यास से लेकर पौधा-रोपण तक, बर्तन से लेकर साड़ी तक – क्या कुछ नहीं लुटाया जाएगा, उधर श्रम संगठनों और लेबर यूनियनो के लीडर अपने साथियों के साथ नारेबाजी करते हुये बैनर लेकर जुलूस  निकालेंगे, लंबे लंबे आंकलनों और आंकड़ों वाले उबाऊ लेख प्रकाशित होंगे, लोग गर्मी में हलकान होते हुये इन सब आयोजनो-प्रयोजनो का हिस्सा बनेंगे और एक दिवस धूम-धाम से सम्पन्न होगा।

ऐसे ही सम्मान-समारोह की बानगी यहाँ पेश है। मेरी माँ भी एक श्रमिक की भांति सारा दिन घर में खटती रहती हैं। परंतु समाज का नज़रिया एक गृहणी के श्रम के लिए सिर्फ ‘एक माँ का फर्ज़’ के दायरे में ही सिमट के रह जाता है सो रहने दीजिये उस विषय-बिन्दु की बात, वो फिर किसी और दिन। हाँ तो हुआ यूं की आस-पड़ोस की कुछ अति-सक्रिय महिलाओं ने माँ को धर-दबोचा की क्या घर में ही काम से दो-चार होती रहती हो! ज़रा घर से निकल कर समाज की ज़िम्मेदारी भी समझो और अपने फर्ज़ अदा करो। अब आप को ये ज़रा स्पष्ट कर दूँ की ऐसा तो नहीं है की घर समाज का हिस्सा नहीं है या की मेरी माँ सामाजिक प्राणी नहीं हैं। ना ही वो कभी घर-घूसड़ू रहीं, हर स्थानीय समस्या और मुद्दे को उन्होने समझा और जहां जैसे संभव हुआ, उस संबंधित व्यक्ति तक समाज के उस मुद्दे को पहुंचाया जहां या तो विशुद्ध बेवकूफी हो रही थी या फिर अनपढ़ों सी नासमझी, या फिर गरमा-गर्मी में ही बात पिघल कर रह जाती थी । अक्सर संबंधित अधिकारी तक न पहुँच कर लोग आलस में और उदासीनता में जिन बातों की उपेक्षा करते रहे हैं, मेरी माँ ने उस विधायक या अफसर या मेयर तक उस बात को समझाया जो की एक पढ़े-लिखे समझदार व्यक्ति से अपेक्षित होता है !

मगर मैं जिन स्त्रियों की बात कर रही हूँ, वो इन विशेषताओं को नहीं समझतीं। ये वो हैं की जिन में से एक के पति केन्द्रीय विद्यालय के रिटायर्ड प्रिंसिपल हैं, दूसरी मोहतरमा के पति सिंचाई विभाग में एक ऊंचे पद पर हैं, एक अन्य मैडम हैं जो की सैन्य अफसरों की माताजी हैं… इत्यादि इत्यादि और यही सब परिवार न तो पेड़ों के गिरे हुये सूखे पत्तों की ढेरी को आग लगाने में देरी करता है, न होली पर टायर जलाने से गुरेज, पर्यावरण जाये भाड़ में !

सो इन सब देवियों मे तय किया की अबकी बार ये अपनी अति-लोकप्रिय संस्था, जिसकी शाखाएँ हिंदुस्तान के लगभग सभी शहरों में अपनी जड़ें जमाये हैं, और  जिसके, खास मौकों पर खास तरीके के आयोजन होते रहते हैं (कैसे? ये फिर कभी तफतीश से! :P ), उसी संस्था के ‘श्रमिक-प्रोत्साहन’ के लिए आयोजित अति- विशिष्ट कार्यक्रम के उपलक्ष्य में वो हमारे घर से भी चंदा लेंगी ही।  अब जब दे रहे हो चंदा तो फिर तन-मन-धन से समर्पण को करना ही होगा, डुबकी तो लगानी ही होगी, चाहे कितनी ही मैली हो गंगा !

इन कार्यक्रमों की विशेषता ये होती है की ये आपको अलग-थलग न महसूस करा कर आपको इसमें स-शरीर खींच लेते हैं। जैसा की आपने देखा होगा की मेले का टिकिट लेते हैं तो जाना भी होता है, फिर उसमें समान की दुकान पर रुक कर अपनी पहचान वाले सज्जन (शायद वही जिनकी बिटिया आपको टिकिट बेच गयी थी) का सम्मान भी करना होता है और फिर कबाड़ से बनी हुयी बेकार की वस्तु खरीद कर अपनी जेब को ढीला करना होता है। सिली हुयी जेब फटने को तैयार हो जाती है और फालतू चीज़ घर मे खिजाने को सज़ जाती है। ठीक उसी प्रकार से, आपको न सिर्फ समाज की सेवा करने वालों को इनाम देने के लिए अपनी जेब ढीली करनी है बल्कि अपने साथ अपना एक कर्मचारी (माली, सफाई-वाला/वाली, बर्तन-वाली वगैरह में से कोई) को भी ले जाना है । क्यूँ? जिस से की उनको, आपके पैसे से खरीदे गए स्टील के टिफ़िन बांटे जा सकें, सब छोले-भटूरे की एक दावत उड़ा सकें और जिससे की वह लोकप्रिय संस्था अगले दिन अखबार में अपने कारनामे और उनको करने वाले खास चुनिंदा नाम(चीन?) कारिंदों (जो की उस संस्था के स्थानीय डाइरेक्टर इत्यादि हैं) की दिलदारी की खबर फोटो सहित छपवा कर, और अधिक लोकप्रिय हो सके, अधिक सफल कहला सके ।

आया न मज़ा पढ़ के? आपका पैसा, आपका कर्मचारी, और मजे सबके! कैसे?? वो ऐसे की भाई जब आपसे जबर्दस्ती की  मैम्बरशिप के लिए 500 रुपए जाएँ, साथ में 190/- अलग से आपकी इस भागीदारी के लिए जिसमें की भोजन और भजन शामिल होगा तथा एक 70/- का स्टील का कटोरदान आपके कर्मचारी के लिए आयेगा।

फिर आप अपने अति-व्यस्त कर्मचारी से ढेरों मिन्नतें कर के, उसे चार दूसरे प्रलोभन दे कर मान-मनौव्वल कर अपने साथ ले जाएंगे (क्यूंकी किसी भी कर्मचारी या मेहरी या जमादार को  तैयार न  कर पाने में भी आपकी किरकिरी होनी तय है) । वो नाक-भौं सिकोड़ता, अपनी व्यस्तता की दुहाई दे कर नखरे दिखाता, आपके साथ अगर चला भी जाएगा तो किस्सा यहीं खत्म नहीं हो जाएगा !

वहाँ सभी सम्मान-जनक और सम्माननीय लोगों की अपनी अपनी दिल की भड़ास (अर्थात इस सुअवसर पर हर एक मेम्बर को पान की पीक से सने दांतों से मुसकुराते हुये, अभिवादन करते हुये अपना और संस्था की उपलब्धियों का, देश सेवा की त्वरित भावना, उसमें योगदान, तथा इस दिवस की महत्ता का रटा-रटाया, कागज के पुर्जे पर लिखा हुआ राग अलापने के बाद) एक एक करके, हर मेम्बर की महत्ता के हिसाब से उतनी देर तक मंच पर उनकी उपस्थिति को फोटू में दर्ज़ करते हुये जब आपका (याने की आपके कर्मचारी का) नंबर आयेगा, तब तक न तो उनकी नकल में खीसें निपोरने के लिएआप में दम  बचा होगा न धैर्य! पोर पोर दुखती हड्डी से उठ   कर जब आप मंच पर जाएंगे और अपनी थकी हुयी आँखों से अपने कर्मचारी को सामने आने के लिए ढूँढेंगे तो शायद ये जान कर आपके होश उड़ जाएँ की वो कब का अपने समय की बर्बादी को बड़बड़ाता हुआ वहाँ से जा चुका है ! अगर वो वहाँ टिका भी है तो वो आपके बेजा ताली बजा बजा के दुखते हाथों के इशारे पर बुलाने से वहाँ आ तो जाएगा पर साथ ही आँखों से आग उगलेगा और सत्तर रुपए के टिफ़िन पे मुंह से सत्तर बड़बड़ाटे और बात सुनाएगा। उसका वहाँ खड़े रहने का एहसान आप पर, उसकी बर्बाद दिहाड़ी का कर्ज़ आप पर और इस स्थिति में दोनों तरफ से शर्मसार आप ! तिस पर तुर्रा ये की ‘अजी इस बीस रूपल्ली की टिफ़िन की किसे जरूरत है मेमसाब, मुझे तो सरकार से पगार बेहतर मिलती है (या फिर की मेरी बिना टैक्स की घर घर से वसूली कमाई बेहतर है न की आपका ये समय बर्बाद उपहार ) , इसका तो ढक्कन  ही हाथ लगाते ही चटक गया!’

आ गया न मज़ा!

पर अगर हम व्यंग्य को एक तरफ रखें तो बात उसकी ठीक ही तो है! इस बेमतलब आयोजन में सिवाय आयोजन-कर्ता के, और किसका लाभ था? देने वाला अपनी जेब से गया, लेने वाले को मुनाफा न हुआ, वो खर्चा किस काम का? एक मेहनतकश आदमी, अपना काम-धंधा छोड़ कर खड़ा रहा, सिर्फ इसलिए की उसको उसी काम के लिए एक भाषण में लिपटा हुआ एहसान समेत वो इनाम (या बख्शीश?) मिलना है जो उसकी उस दिन की रोज़ी-रोटी को बर्बाद करता है। एक दूसरे मेहनत-कश आदमी की जेब इसलिए तराशी गयी की एक और कर्मचारी को पुरस्कृत करना था? कौन किसको सराहे? क्या सभी सराहना के योग्य नहीं हैं? हमारे परिवार में जो कमा रहे हैं, उनकी कमाई बर्बाद करी गयी उस बहाने के लिए जिस से एक और कमाने वाले की कमाई का समय बर्बाद हुआ! इस बख्शीश से दोनों में से किसको फायदा हुआ? किसी को नहीं! सिर्फ उस थर्ड पार्टी को हुआ जिसने एक की जेब और दूसरे के मौके को भुनाया! (उनके लिए तो हींग लगा ना फिटकरी रंग भी चोखा आ गया !)

इसके अलावा इस आयोजन में पिजली-पानी का जो अपव्यय हुआ, सो अलग!

 और हम रोते हैं की देश वहीं की वहीं है!  दरअसल हो क्या रहा है हमारे भारत में, की हम जो दिखाते हैं की हम कर रहे हैं, उस से अल्हेदा हमारा अजेंडा यानी की उद्देश्य हो जाता है। जाने कैसे या फिर सोच समझ कर, हम जो कर दिखाने और बताने की कोशिश कर रहे होते हैं, उस से अलग दिशा में हमारे हाथ जा रहे होते हैं, कान आत्म-प्रशंसा पर लगे होते हैं और ज़ुबान जो बोलती है उसके तात्पर्य कई होते हैं!

मुझे बचपन में पढ़ा हुआ वो पाठ नहीं भूलता जो ये सिखाता था की कभी खाली मत बैठो! अपनी सराहना, प्रशंसा, सहमति या असहमति काम कर के दिखाओ न की धरनो और रैलियों में बैठ कर! शायद आपने सुना हो की जापान में अधिक काम कर के अपना विरोध दर्ज़ कराने की परंपरा है। गांधीजी की विचार शैली इस मुद्दे पर स्पष्ट थी की खाली बैठा इंसान शैतान का घर ही होता है। इसलिए उन्होने किसानो को सुझाया की वे लोग सिर्फ एक तरह की फसल की बजाय अलग अलग तरह की फसलें उगाएँ, चरखा चलाएं  और बहोत से नए कमाई के साधन जुटाएँ। उन्होंने वोकेशनल एडुकेशन पर ध्यान देने और उसको जीवन शैली में शामिल कर, विकसित करने पर बल दिया ।

वोकेशनल  एडुकेशन एक बहोत ही आवश्यक परंपरा है। जो किसी कारणवश पढ़-लिख नहीं पाये या जो बच्चे स्कूल से नहीं जुड़ पा रहे हैं उन्हे ऐसे कलाओं में पारंगत करा जाये तथा ऐसे कामों में दक्ष किया जाये जिससे की वो अपनी तथा अपने परिवार की जीविका कमाने का बोझ उठा सकें। उनको पहले अपने परिवार और उसकी भूख  सूझती है न की पढ़ाई। हमारे इस तरफ से आँखें मूँद लेने से समस्या हल नहीं होगी | हम उन्हे पढ़ाई की ओर तक तब आकर्षित नहीं कर सकते जब तक हम उन्हे आत्म-निर्भर न कर दें।  इस तरह पेट भरने के मजबूत तथा स्थायी साधन का इंतेजाम करने के बाद या यूं कहना चाहिए उसके साथ ही ही हम उन्हे वैल्यू-एडुकेशन दे सकते हैं क्यूंकि खाली पेट भजन न होए गोपाला ! मन और पेट भरा होने पर इंसान अपराध की तरफ कम भागता है । हमे फिर से गांधी जी की कही बातों को गौर से पढ़ना-समझना होगा, और ये सीधी सी बात समझनी होगी की समाज में फैलती मानसिक विकृति भी इसी बात का नतीजा है की आजकल एडुकेशन में से मॉरल-साइंस और मॉरल वैल्यूस की किताबें तथा कक्षाएं गैर-ज़रूरी समझ कर खत्म कर दी गयी हैं। बच्चे अगर समझदार होते इतने की स्वयं ही सही-गलत का निर्णय ले पाते तो फिर बच्चे ही क्यूँ कहलाते?

और जो बच्चे बड़े हो गए हैं उन मॉरल-वैल्यूस के बिना, वही ऐसे फालतू आडंबरों में न सिर्फ सबका समय और पैसा बर्बाद करते हैं, बल्कि देश को दिशा-हीन भी करते  हैं। ज़रूरत है की ऐसे  श्रम दिवस से शर्म दिवस बनते अनावश्यक आयोजनो को बंद किया जाये और इस महंगे वक़्त में संसाधन तथा शक्तियों का दुरुपयोग न करते हुये सही जगह पर उसको लगाया जाए। जय हिन्द ।

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 344 other followers

%d bloggers like this: